हॉलमार्किंग


बीआईएस हॉलमार्किंग योजना,  हॉलमार्क पर अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों के साथ समेलित है। इस योजना के अनुसार, हॉलमार्किंग योजना के अंतर्गत बीआईएस द्वारा ज्वैलरों को पंजीकरण किया जाता है। बीआईएस प्रमाणित ज्वैलर बीआईएस से मान्यताप्राप्त किसी भी  एसेयिंग और हॉलमार्किंग केन्द्रों से अपनी हॉलमार्क लगी ज्वैलरी हॉलमार्क करा सकते हैं।

ज्वैलर द्वारा हॉलमार्क ज्वैलरी/शिल्पावस्तुओं की बिक्री के लिए पंजीकरण प्राप्त करने की प्रक्रिया

हॉलमार्किंग बहुमूल्य धातु की वस्तु में बहुमूल्य धातु की आनुपातिक सामग्री का सटीक निर्धारण और आधिकारिक रिकॉर्डिंग है । इसी तरह से हॉलमार्क बहुमूल्य धातु की वस्तुओं की महीनता या शुद्धता की गारंटी के रूप में कई देशों में आधिकारिक चिह्न के रूप में प्रयोग किया जाता है।हॉलमार्किंग योजना का मुख्य उद्देश्य मिलावटी सोने  से जनता की रक्षा करना और महीनता के वैध मानकों को बनाए रखने के लिए निर्माताओं को बाध्य करना है।

    • आवेदन पत्र
    • अपेक्षित दस्तावेजों की सूची
    • लागू शुल्क

एसेयिंग और हॉलमार्किंग केन्द्रों को मान्यता प्रदान करने की प्रक्रिया

एसेयिंग और हॉलमार्किंग केन्द्र की स्थापना के लिए भारतीय मानक आईएस 15820:2009 “एसेयिंग और हॉलमार्किंग केन्द्रों को प्रचालन और स्थापना की सामान्यअपेक्षाएं ”आधार है।केंद्र स्थापित करने के बाद, मान्यता प्राप्त करने के इच्छुक केंद्र को एक सामान्य गुणता  मैनुअल के आधार पर उनके द्वारा बनाई गई ,अपने गुणता मैनुअल के साथ निर्धारित आवेदन पत्र में आवेदन करना होगा।

    • आवेदन पत्र
    • सामान्य गुणता मैनुअल
    • आवेदन शुल्क
    • एसेयिंग और हॉलमार्किंग केन्द्रों को मान्यता प्रदान करने के लिए दिशानिर्देश

स्वर्ण परिष्करणशाला

परिष्करणशाला पिछले एक साल से स्वर्ण परिष्करण के व्यापार में हैं और लंदन बुलियन मार्किट एसोसियेसन याराष्ट्रीय परीक्षण और अंशशोधन प्रयोगशाला प्रत्यायन बोर्ड (एनएबीएल) से मान्यता प्राप्त हैं उनकी प्रयोगशालाओं के प्रत्यायन के लिए के लिए वआईएस 1417: 2016 (सिर्फ 995 और 999 की महीनता के लिए )के अनुसार उनके द्वारा उत्पादित मानक छड़ों पर मुहर लगाने के लिए बीआईएस का लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकती हैं।

स्वर्ण मुद्रीकरण योजना

  • सीपीटीसी के रूप में कार्य करने के लिए अर्हताप्राप्तज्वैलरों की सूची
  • लाइसेंस प्राप्तपरिष्करणशालाओं की सूची
  • सीपीटीसी के रूप में कार्य करने के अर्हताप्राप्त ए एंड एच केंद्र
  • स्वर्ण मुद्रीकरण योजना के तहत संग्रह और शुद्धता परीक्षण केंद्र की स्थापना के लिए बीआईएस पंजीकृतज्वैलरों / परिष्करणशालाओं से रूचिकी अभिव्यक्ति

1) 1) उपभोक्ता द्वारा हॉलमार्क वस्तुओं का जांच परीक्षण

    • उपभोक्ता बीआईएस से मान्यता प्राप्त किसी भी एसेयिंग और हॉलमार्क केन्द्र से अपने ज्वलैरी/नमूने की जांच करा सकता है। एसेयिंग और हॉलमार्क केन्द्रशुल्क के आधार पर प्राथमिकता पर सामान्य उपभोक्ता के मुहरांकित आभूषण / नमूने का परीक्षण करते हैं। एसेयिंग और हॉलमार्क केन्द्र को वस्तु पर यथा उचित पहचान देते हुएएसे रिपोर्ट जारी करनाअपेक्षित है।

 

2) शिकायत का निवारण

    • यदि उपभोक्ता द्वारा खरीदी गई हॉलमार्क लगी ज्वैलरी पर मुहरांकित शुद्धता ज्वैलरी पर मुहरांकित शुद्धता से कम पाई जाती है तो वह केन्द्र, जिसने ज्वैलरी को हॉलमार्क किया है उसे उपभोक्ता को परीक्षण शुल्क लौटान होगा। मौजूदा योजना में आभूषण बदलकर उपभोक्ता को संतुष्ट करने के लिए ज्वैलरों को बाध्य किया जाएगा ।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. हॉलमार्किंग क्या है?

हॉलमार्किंग बहुमूल्य धातु की वस्तु में बहुमूल्य धातु की आनुपातिक सामग्री का सटीक निर्धारण और आधिकारिक रिकॉर्डिंग है ।

2. हॉलमार्किंग योजना की स्थापना के पीछे उद्देश्य क्या था ?

सोने या चांदी की घटिया गुणता से उपभोक्ता को बचाने के लिए और दुनिया में भारत को अग्रणी सोने के बाजार केंद्र के रूप में विकसित करने और निर्यात से प्रतिस्पर्धात्मकता विकसित करने के लिए।

हमें संपर्क करें

अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित पते पर संपर्क करें :

    • उपमहानिदेशक (हॉलमार्किंग)
    • कमरा सं. 555, मानकालय
    • भारतीय मानक ब्यूरो
    • 9, बाहदुरशाह जफर मार्ग
    • नई दिल्ली – 110002
    • टेलीफोन : 011-23234223 एक्स 8368
    • ईमेल: Hallmarking@bis.org.in
 
(English) national portal logo
(English) consumer affairs logo
(English) relief fund logo
iso
(English) isro logo
(English) iec image
(English) niti ayog logo
(English) digital india logo
(English) swach bharat logo
make in india logo
ghtc
Skip to contentBIS